Home web hosting वेब होस्टिंग क्या है | कितने प्रकार की होती है

वेब होस्टिंग क्या है | कितने प्रकार की होती है

0
वेब होस्टिंग क्या है

क्या आप ये जानने के लिए उत्सुक हैं की वेब होस्टिंग क्या है और कितने प्रकार की होती है तो दोस्तों इंतजार की घडी ख़त्म आज हम वेब होस्टिंग के बारें में बिस्तार से बात करेंगे 

तकनीकी भाषा में वेब होस्टिंग का मतलब आपके ब्लॉग वेबसाइट का सारा सामग्री (Content) आदि जहाँ पर रखा जाता है/ स्टोर होता है उसे वेब होस्टिंग/सर्वर कहते हैं 

hostinger Hosting Review hindi

वेब होस्टिंग क्या है. कितने प्रकार की होती है 

वेब होस्टिंग क्या है. कितने प्रकार की होती है 

वेब होस्टिंग मुख्य रूप से ब्लॉग/वेबसाइट को होस्ट करने के लिए सर्वर का प्रयोग करने की एक प्रक्रिया है

आपने एक डोमेन ख़रीदा, वेबसाइट बना लिया, अब आपकी वेबसाइट पर कोई Visitor आएगा वो जो भी Content (सामग्री) देखेगा वो सभी आपको एक सर्वर पर सुरक्षित रखना पड़ता है और ये सर्वर घर पर नहीं बना सकते

हालांकि आप घर पर बना सकते हो इसके लिए आपको 24×7 कंप्यूटर चालू रखना पड़ेगा जिसके लिए आपको 24x7x365 विद्युत तथा हाई फाई इन्टरनेट कनेक्शन की आवश्यकता पड़ेगी ताकि अगर पूरी दुनिया में कोई वेबसाइट ओपन करे तो वो आपके कंप्यूटर तक आये और आपका कंप्यूटर एक वेब होस्टिंग के रूप में उसको प्रोसेस करे

तो कुल मिला के आप घर में सर्वर स्ठापित नही कर सकते, तो यहाँ पर हम दूसरी कंपनी जिनके डाटा सेंटर चल रहे हैं जैसे होस्टिंगर उनको हम महीने का भुगतान करने उनके डाटा सर्वर से एक छोटा सा हिस्सा /डिस्क स्पेस मिल जाता है जहाँ हम अपनी फाइल आदि स्टोर करते हैं 

आप ये जो आर्टिकल पढ़ रहे हैं ये सिंगापूर के डाटा सेंटर में सुरक्षित पड़ा हुआ है और ये तब तक सुरक्षित रहेगा जबतक मै इसके पैसे चुकाता रहूँगा

वेब होस्टिंग कितने प्रकार की होती है

1. dedicated hosting

Dedicated यानि की समर्पित यहाँ पर आपको होस्टिंग प्रदाता कंपनी पुरा CPU एक डिब्बा जिसमे RAM, Processor जो 2 Core, 4 Core का हो सकता है आपको पुरा दे देती है मतलब पुरा CPU आपका हो जाता है dedicated hosting के लिए सामान्य रूप से आपको ज्यादा कीमत चुकानी पडती है, इसकी कीमत कुछ 8000-20000/m से सुरु होती है 

Dedicated Hosting कब लेना चाहिए

Dedicated सर्वर basically Amazon, Flipkart आदि प्रकार की  वेबसाइट के लिए होता है जिनका 1 मिनट में लाखो का ट्रैफिक आता है , नार्मल ब्लॉग वेबसाइट के लिए ये नही है, नार्मल ब्लॉग वेबसाइट के लिए क्लाउड होस्टिंग से काम चल जाता है

अगर आपकी वेबसाइट क्लाउड होस्टिंग को भी हैंडल नही कर पा रही है तो आपके पास एक और विकल्प है आप AWS, Site Ground, A2, HostGator आदि के होस्टिंग के साथ जा सकते हैं 

2. VPS Hosting

वर्चुअल प्राइवेट सर्वर, यहाँ पर होस्टिंग प्रदाता कंपनी Dedicated Server में अलग से आभासी (Virtual) Sub Machine बना देती  है जैसे 20 GB RAM वाले CPU को 10 अलग- अलग Sub Machine में आवंटित कर देती है जिनकी RAM 2-2 GB हो जाती  है. तो कंपनी कुछ इस तरह से 1 CPU को कई हिस्सों में बिभाजित करके आपको 2-2 GB का VPS Hosting पकड़ा देती है VPS Hosting की कीमत की बात करें तो ये कुछ 2000-8000/m देखने को मिल जाएगी 

VPS Hosting कब खरीदना चाहिए 

यदि आप Beginner ब्लॉगर से एक लेवल ऊपर हैं मतलब आपको ब्लॉगिंग करते हुए 1-2 साल हो गए हैं और आपके ब्लॉग में Google से आर्गेनिक ट्रैफिक आने लगा है, और Shared hosting से आपकी वेबसाइट बार-बार डाउनटाइम में जा रही है तो आपको VPS होस्टिंग में अपग्रेड कर लेना चाहिये 

Hostinger VPS Hosting

3. Shared hosting

Shared hosting में होस्टिंग प्रदाता कंपनी VPS सर्वर को भी 20-40 भागो में विभाजित कर देती हैं और आपको कनेक्शन दे देती है, जैसे आपके घर पर एक पानी की टंकी है लेकिन उसका पानी पुरे घर में लगे Water Faucet (पानी का नल) में पानी आता है ठीक इसी प्रकार यहाँ होता है बात करें इसकी कीमत की तो ये कुछ 50-250 तक देखने को मिल जायगी 

Shared hosting कब खरीदनी चाहिए 

यदि आप एक beginner है हाल ही में ब्लॉग्गिंग सुरु किया है आप ज्यादा इन्वेस्ट नहीं करना चाहते और आपकी वेबसाइट पर ज्यादा visitors भी नहीं हैं तो आपको Shared hosting के साथ जाना चाहिये, 

Shared hosting के नुकसान

Shared hosting का नुकसान ये है की अगर आपकी वेबसाइट की Bandwidth बड जाता है. मतलब आपके वेबसाइट पर Visitors ज्यादा आने लगते हैं तो आपकी वेबसाइट Down चली जाएगी क्योकि आपके Resource को और भी लोगों के साथ शेयर किया जाता है. 

अगर आपके वेबसाइट का ट्रैफिक Shared hosting के निर्धारित समय सीमा से ज्यादा आने लगता है तो होस्टिंग प्रदाता कंपनी आपसे संपर्क करके आपका वर्तमान होस्टिंग प्लान को अपग्रेड करने को बोल सकती है 

4. Cloud Hosting

Cloud Hosting में वेबसाइट Multiple Server पर Stored रहती है और यहाँ पर सभी सर्वर और सभी सिस्टम एक दुसरे से जुड़े हुए होते है और आप यहाँ पर अपने सर्वर को On the Go Configure कर सकते हैं मतलब आप अपने मन मुताबिक किसी भी सर्वर से वेबसाइट को कनेक्ट कर सकते हैं 

जैसे अगर आपकी वेबसाइट पर visitors अचानक बढ़ गए और आपकी वेबसाइट 2GB RAM का Resources वर्तमान में इस्तेमाल कर रही है

तो आपके आप  विकल्प रहता है आप तुरंत अपने वेबसाइट को 4GB RAM वाले Resources से On The Go Configure कर सकते हैं यहाँ Down time न के बराबर देखने को मिलता है 

Cloud Hosting कब इस्तेमाल करना चाहिए 

Cloud Hosting VPS Hosting का Upgraded वर्जन कह सकते हैं अगर आपका प्रतिदिन का ट्रैफिक +10K है तो आपको Cloud होस्टिंग के साथ जाना चाहिए क्योकि यहाँ पर आपको डाउनटाइम बिलकुल भी देखने को नही मिलेगा 

hostinger Cloud Hosting 

वेब होस्टिंग ख़रीदने से पहले आपको किन बातो का ध्यान रकना चहिये 

1. Storage/Disk Storage

अगर आप होस्टिंग खरीदने की सोच रहें है तो आपको सुनिश्चित कर लेना चाहिए  की आप जो भी होस्टिंग खरीदने जा रहे है उसमे SSD स्टोरेज होना चाहिए न की HDD, SSD से आपकी वेबसाइट HDD की तुलना में फ़ास्ट लोड होगी 

2. Bandwidth

 होस्टिंग में bandwidth एक महत्वपूर्ण कारक माना जाता है आप जब भी होस्टिंग ख़रीदे आपको येसे होस्टिंग का चुनाव करना चहिये जो आपको Unlimited bandwidth देती हो

Unlimited bandwidth होना क्यों जरुरी है

दोस्तों Unlimited bandwidth होना इस लिए जरुरी हो जाता है जैसे अगर आपकी वेबसाइट का कोई 2 GB की कोई विडियो या कोई भी कंटेंट हो सकता है जिसका साइज़ 2 GB की है, मान लीजिये उस 2 GB साइज़ वाले कंटेंट को 100 लोगी ने डाउनलोड किया तो उसका साइज़ 200 हो जायेगा 

एसे में अगर आपको एक सिमित bandwidth वाली होस्टिंग ख़रीदा हुआ है तो तो आपकी वेबसाइट डाउन चली जाएगी इसलिए आपको Unlimited bandwidth वाली होस्टिंग के साथ जाना चाहिए जैसे Hostinger Unlimited bandwidth देती है 

3. RAM

होस्टिंग ख़रीदने से पहले आपको RAM पर भी गौर करना चहिये 4GB से कम नही होना चाहिए  

Response Time

आप जब भी होस्टिंग ख़रीदे आपको होस्टिंग का Response Time (प्रतिक्रिया समय) जरुर चेक कर लेना चहिये प्रतिक्रिया समय अगर ज्यादा होगा तो आपकी वेबसाइट लोड होने में समय लेगी जिससे आपकी वेबसाइट की रैंकिंग बहुत कम हो जाएगी Google उन्ही वेबसाइट को तवज्जो देता है जो जल्दी लोड होती है 

Uptime

Uptime भी  होस्टिंग का एक महत्वपूर्ण कारक है यदि आप बिना सोचे समझे कोई भी होस्टिंग ले लेते हैं तो आपको इसका बुरा नतीजा भुगतना पड़ सकता है कुछ सस्ती व फ्री होस्टिंग कई घंटे तक डाउन रहती है जिससे आपकी वेबसाइट का Uptime कम हो जायेगा कोई भी visitors आपकी वेबसाइट पर आना चाहेगा तो उसे सर्वर डाउन आदि का त्रुटि देखने को मिलेगा जिसमे सिर्फ़ आपका  ही घाटा है 

अपने आस-पास का सर्वर लें 

अगर आपके ब्लॉग पर आपके ही Country से Visitors आते हैं तो अगर संभव हो सके तो आप जिस country में रहते हैं वहां का सर्वर लें, इससे आपकी वेबसाइट Fast Load होगी, जिससे Google Ranking में आपको बहुत लाभ मिलेगा 

तो दोस्तों उम्मीद करता हूँ वेब होस्टिंग क्या है कितने प्रकार की होती है आदि से आपको हेल्प मिली होगी 

अपना समय देने के लिए धन्यवाद 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here